content writing in hindi

Content writing की बारीकियां

राइटिंग फील्ड एक सपनों की दुनिया है, मगर हर किसी के लिए नहीं।

हर एक इंसान सोचता है, हर एक इंसान अपनी भावनाओं को अपने-अपने शब्दों में व्यक्त करना जानता है, हर एक इंसान के जीवन में अपनी एक कहानी होती है। तो इस हिसाब से हर एक इंसान अपने आप में एक राइटर है और आज कल तो सोशल मीडिया फेसबुक,व्हाट्सएप, इन्स्टाग्राम जैसे प्लेटफॉर्म्स पर कई नए लेखकों का निर्माण हो रहा है।

राइटिंग अब सिर्फ शौक नहीं रही बल्कि यह कमाई का जरिया बन चुकी है। एक अच्छा कंटेंट राइटर बनने के लिए सिर्फ एक्सपीरियंस और नॉलेज ही जरुरी है, यह बात बहुत ही गलत है। अगर आप अपनी भावनाओं को शब्दों में पिरोना जानते हैं तो आप भी एक बेहतर कंटेंट राइटर बन सकते हैं।

कंटेंट राइटर एक सेल्स मैन –

एक कंटेंट राइटर को एक सेल्स मैन की तरह होना चाहिए क्योंकि उसके क्लाइंट की छवि लोगों के दिमाग में कैसी बनती है, यह बस उसके शब्दों पर ही निर्भर करता है। इसलिए एक कंटेंट राइटर को चाहिए कि पहले वह अपने क्लाइंट को अपने दिलों दिमाग में अच्छी तरह से बसा ले, क्योंकि आपको उनके लिए ही शब्द लिखना है। यह आप पर निर्भर करता है, आप अपने क्लाइंट को सोशल मिडिया पर कैसे प्रदर्शित करते हैं इसलिए आपको एक बेहतर सेल्स मैन बनना पड़ेगा ताकि आप अपने शब्दों को बेच सको, लोगों को पढ़वा सको।

कैसे आप अपनी वेबसाइट के लिए एक बेहतर कंटेंट लिख सकते हैं।

एक सफल कंटेंट राइटर की लाइफ बहुत गहरी होती है। वो अपने घर बैठ कर काम कर सकता है, वह अपना शेड्यूल बना सकता है, कितना काम करना है यह भी वह निर्धारित कर सकता है मगर वह कितनी देर अपने आप पर काम कर सकता है, उसी से उसकी सफलता निर्भर करती है। कोई फर्क नहीं पड़ता आप कितना बेहतर लिखते हैं, एक कामयाब कंटेंट राइटर बनने के लिए सिर्फ एक बेहतर राइटर होना ही काफी नहीं है। अगर आपको एक सफल कंटेंट राइटर बनना है, तो आपको आपकी राइटिंग में मार्केटिंग का पूरा टूलकिट साथ में लेकर चलना होगा।

टेक्निकल राइटिंग

आज तकनीक दिन-ब-दिन अपडेट होती रहती है। लिहाजा तकनीक और इनोवशन से जुड़ी कंपनियों जैसे सॉफ्टवेयर, टेलीकॉम, बायोटेक, इलेक्ट्रॉनिक्स और एमएनसीज को उपने उत्पादों को नये सिरे से कस्टमर्स को समझाना पड़ता है। और इस काम में टेक्निकल राइटर की जरूरत पड़ती है। जो बड़ी आसान और आकर्षक भाषा में लोगों को समझाने में कामयाब होते हैं। टेक्निकल राइटर अच्छी फोटो, डायग्राम्स, ग्राफिक्स और अच्छे शब्दों के चयन से उत्पादों के मैन्युअल्स, अपेन्डिक्स और कैटलॉग बनाने जैसे कामों का अंजाम देते हैं।

घोस्ट राइटर

आजकल बहुत सी फेमस पर्सनैल्टी अपनी ऑटोबायोग्राफी, सोशल मीडिया और वेब साइट पर लिखने के लिये अच्छे राइटर्स को हायर करते हैं। जो अपने मुताबिक किताब तैयार करवाते हैं और सोशल मीडिया पर अपनी बातें रखवाते हैं।

वेब कंटेंट राइटिंग

वेबसाइट का पेज आकर्षक नहीं हो, तो लोग कम पढ़ते हैं। इसीलिए कम शब्दों में वेब राइटर को अपनी बात प्रभावशाली तरीके से कहनी होती है। ग्राफिक्स, फोटो के साथ आसान शब्दों और प्वाइंट्स का ज्यादा इस्तेमाल करना होता है। वेब राइटर के लिये सबसे बड़ी चुनौती लेखन के साथ सर्ज इंजन ऑपटीमाइजेशन की भी होती है। जिसका थोड़ा ज्ञान होना आवश्यक है।

माइक्रो कंटेंट राइटर

छोटी चीजें हमेशा प्रभावशाली साबित होती है। खासकर ऑनलाइन की दुनिया में। वेबसाइट पर ट्रांजेक्शन लाने के लिए माइक्रो कंटेंट राइटर का उपयोग होता है। आज की इस व्यस्त दुनिया में किसी के पास इतना वक्त नहीं है कि वह घंटो किसी चीज़ को पढ़े इसलिए कम शब्दों में अपनी सारी बात समझा देना ही माइक्रो कंटेंट राइटिंग कहलाती है।

सोशल मिडिया का बाज़ीगर

एक अच्छे कंटेंट राइटर को सोशल मिडिया की अच्छी समझ होनी चाहिए। कौनसी खबर पर सोशल मार्केटिंग में हल्ला मचा हुआ है, कौनसी खबर का उपयोग करके वह अपने क्लाइंट की मार्केटिंग कर सकता है, सोशल मिडिया पर लेटेस्ट ट्रेंड क्या चल रहा है या वह ऐसा कौनसा नया ट्रेंड चला सकता है जिससे उसके क्लाइंट को फायदा हो सके इन सब बातों पर उसकी पकड़ होनी चाहिए या असल मायने में कहा जाय तो उसे सोशल मीडिया का बाज़ीगर होना चाहिए।

About the author: ISHAN

Growth Hacker | Speaker | Entrepreneur | Helping Companies Drive Breakout Growth. Learn more at IshanMishra.in

Leave a Reply

Your email address will not be published.